• NRI Herald

प्रहरी भारत के !

भारतीय अध्यापक दिवस के शुभ उपलक्ष पे भारतीय सेना के वीरों को समर्पित लोकेश शर्मा जी द्वारा रचित कविता - NRI हेराल्ड ऑस्ट्रेलिया द्वारा प्रकाशित, 05 September 2021

ओ प्रहरी भारत के ! ओ सैनिक भारत के !

तुम प्रहरी संस्कृति के, तुम प्रहरी सीमा के ।


है व्यवस्था जीवित तुम से

है समाज में श्वास तुम से

है सब लोकतंत्र -

राजतंत्र और ये संसद तुमसे ।

है सभ्यता तुमसे ,

कहें भद्र पुरुष तुम्हें ! ( gentleman cadet)


पीड़ा सहते तुम सारी शारीरिक ,

मन से रहते फिर भी शांत स्थिर !


देश क्या ?

देश प्रेम क्या ?

और देशभक्ति क्या ?

कोई तुमसे पूछे फिर !


दुख हो ,

आपदा हो ,

या हो कोई शत्रु का छल !

बन संकट मोचन ,

उभारते भारत को हर पल !


ओ सैनिक !

हो प्रहरी तुम मानवता के ।

जीवन कर्तव्य के नाम है अर्पित ।


वीरता और विवेक का प्रतीक तुम ,

साहस और शौर्य का अटूट प्रतिबिम्ब तुम !


संयम तुम्हारा है अविचल ,

हो कच्छ के रण का ग्रीष्मकाल ,

अथवा सियाचिन का शीत हिमपर्वत !


अडिग -

निर्भय निडर योद्धा परमवीर !


ओ भारत के प्रहरी !

निष्काम सेवा है शिक्षा ।


देश सेवा है परम धर्म !

देश सेवा है परम धर्म !!


जय हिंद

 
Lokesh Sharma

लोकेश शर्मा जी की पैदाइश दिल्ली और स्कूली शिक्षा हिमाचल प्रदेश की राजकीय पाठशाला से हिंदी माध्यम में प्राथमिक एवम् वरिष्ठ माध्यमिक शिक्षा से है, उसके उपरांत औषधी विज्ञान में स्नातक प्राप्त करके उसी क्षेत्र में ऑस्ट्रेलिया में एक मल्टीनैशनल फार्मा कंपनी में कार्यरत हैं , स्वयं को एक भाषा प्रेमी मानते हैं, हिंदी, उर्दू, डोगरी, बंगाली, हरियाणवी, पंजाबी बखूबी बोल लेते हैं. शब्दों का विश्लेषण कर भाषा को समजने का प्रयास करना पसंद है , मानते है, संस्कृत के ही शब्द हर भाषा में मिलते हैं. गीता ज्ञान को जीवन का मार्ग दर्शक बना के आगे बड़ते है.

114 views

Recent Posts

See All