• NRI Herald

नीरज विश्व विजयी हुआ !

लोकेश शर्मा जी द्वारा टोक्यो ओलिंपिक्स स्वर्ण पदक विजेता "नीरज चोपड़ा" के सम्मान मे रचित कविता - NRI हेराल्ड ऑस्ट्रेलिया द्वारा प्रकाशित, 09 August 2021

नीरज विश्व विजयी हुआ !

नीरज है पर्याय कमल का ,

वर्णित है परिचय तेरे व्यक्तित्व का ,

सूर्य - सी आभा तेरी,

मुख मण्डल है शांत चंद्र - सा ,

भुजाओं में पराक्रम महाराणा प्रताप का !


गर्जना तू कर रहा सिंहनाद सी ,

भाले के प्रकाश से आ रही छवि राणा की ,

तेरे आवेग से उठे ध्वनि ऐसी,

प्रताप के चेतक की टापें हो जैसी !


भारतीय सेना का गौरव छुआ ,

कर्मपथ पर फिर अग्रसर हुआ !


लक्ष्य सचेत - अर्जुन सा ,

स्वर्णिम पथ भी तेरे वेग से कृतज्ञ था !


ज्यूँ तूने वो हुंकार भरा ,

पूरे भारत ने फिर -

हर - हर महादेव कहा !

शंख फूँक वर्तमान ने तेरा आह्वान किया ,

माँ भारती ने विजय श्री का आशीर्वाद दिया !


यशस्वी पताका भाले पर ,

भाग्य ने था बाँध दिया ,

बाहुबल के आवेश से ,

जो तूने फिर बरछे का प्रहार किया ।


भेद आकाश को,

उछला वो भाला तेरा वैसे ,

गन्तव्य कर पूरा,

पृथ्वी में गड़ा ऐसे ,

भीष्म पितामह की प्यास बुझी अर्जुन के बाण से जैसे ।


नीरज फिर तू वो विश्व विजेता हुआ,

स्वयं स्वर्ण पदक ने तेरा आलिंगन किया !


तब विश्व विजयी तिरंगा उठा जापान में ,

और हुआ राष्ट्रगान भारत के सम्मान में ,

हुआ राष्ट्रगान भारत के सम्मान में !


कविता "नीरज विश्व विजयी हुआ !" का अनुवाचन

 
Lokesh Sharma

तेरा बहुत बहुत आभार नीरज चोपड़ा !

प्रवासी भारतीय

लोकेश


346 views