• NRI Herald

किसानों के नाम पर शुरू हुई नौटंकी अब आतंकवाद मे बदल गई है!

NRI हेराल्ड ऑस्ट्रेलिया द्वारा प्रकाशित राय , 17th October 2021

किसानों के नाम पर शुरू हुई नौटंकी अब आतंकवाद मे बदल गई है!

किसानों के नाम पर शुरू हुई इस नौटंकी पर मोदी सरकार ने कुछ न करके इनका असली चेहरा सामने ला दिया है! सरकार ने कुछ नहीं किया और कथित "किसान आंदोलन" "खूंखार हैवानों का आंदोलन" बन गया।


कनाडा, पाकिस्तान से फंडेड खा-लिस्तानी आतंकियों के आंदोलन को पिछले एक साल से किसान आंदोलन साबित करने का भरसक प्रयास किया जा रहा था! देशवासियों के मन में इनकी छवि भी किसानों वाली ही बनी थी! कुछ वास्तविक किसान संगठन भी इनके बहकावे में आकर आंदोलन में शामिल हो गए थे! ये लोग चाहते थे की सरकार इनके खिलाफ कोई एक्शन ले, अगर सरकार कोई सख्त एक्शन लेती तो उसके रिएक्शन में ये लोग पूरा देश जलाने की फिराक में थे!


सरकार ने कुछ नहीं किया... 1 महीना बीता, 2 महीना बीता, 4 महीना बीता... लेकिन सरकार ने कुछ नहीं किया... सरकार के कुछ न करने से खा-लिस्तानी गद्दारों को उनका प्लान फेल होता दिखा... गद्दार बुरी तरह खिसिया चुके थे... इसी खिसियाहट में गद्दारों ने हिंसा करनी शुरू कर दी।

लाल किले पर हुई हिंसा

सर्वप्रथम लाल किले पर हुई हिंसा को पूरे देश ने देखा... गद्दारों ने सोचा था की इस हिंसा के बाद सरकार आंदोलन को कुचलने के लिए कोई एक्शन लेगी... लेकिन सरकार ने अब भी कुछ नहीं किया... गद्दारों का प्लान बुरी तरह फ्लॉप हो गया... आंदोलन में जुड़े कुछ वास्तविक किसान संगठन इस घटना के बाद आंदोलन से एक एक करके अलग हो गए।


लाल किले पर हुई हिंसक घटना के बाद कानून ने अपना काम करना शुरू कर दिया... एक एक करके गद्दारों को चिन्हित करके गिरफ्तार किया जाने लगा।

लखीमपुर के आतंकवादी

चूंकि फंडिंग तगड़ी है और विपक्ष का भी पूरा सहयोग मिल रहा है तो इन लोगों ने इसे 2022 में होने वाले चुनाव तक एक्सपैंड करने का प्लान बनाया और किसान के भेष में भिंडरवाला की तस्वीर वाले बैनर पोस्टर लेकर निकल पड़े उत्तरप्रदेश... यहां इन्होंने केंद्रीय मंत्री के काफिले पर हमला किया... जिसमे गाड़ी से कुचलकर 4 लोग मारे गए... जिसके बाद इन लोगों ने 4 भाजपा कार्यकताओं की डंडों से पीट पीट कर विभत्स हत्या की... ये लोग दरबारी मीडिया के साथ मिलकर अपने इस कृत्य को जस्टिफाई करने लगे... एज यूजुअल दरबारी मीडिया इनके साथ दिख रहा था... इस घटना को दिखाकर देश जलाने का प्लान था... विपक्ष के गिद्ध नेता आग में घी डालने निकल पड़े... लेकिन उत्तरप्रदेश में योगी सरकार ने इस बार इनके प्लान पर पानी डाल दिया... सारे विपक्ष के नेताओं को हिरासत में लिया गया और लखीमपुर जाने से रोका गया... सरकार की तरफ से सभी मृतकों के परिजनों को 45 लाख रूपया मुआवजा दिया गया और सरकारी नौकरी देने की घोषणा की गई ताकि कोई भी गिद्ध नेता आग में घी न डाल सके।

गद्दारों का उत्तरप्रदेश को जलाने का प्लान

गद्दारों का उत्तरप्रदेश को जलाने का प्लान फेल हो गया... वापस ये लोग खिसियाकर सिंघु बॉर्डर पहुंचे... वापस पहुंचकर इन्होंने खिसियाहट में एक दलित की हत्या की लेकिन इस बार इस हत्या को जस्टिफाई करने की कोई ठोस वजह नहीं थी... इन्होंने पवित्र ग्रंथ की बेअदबी का बहाना बनाया लेकिन ये बहाना चल नहीं सका।


अब वही दरबारी मीडिया जो कल तक इन गद्दारों को किसान बता रहा था, वही बड़ी बड़ी हेडलाइन में इन्हे "खूंखार हैवान" बता रहा है।


इन गद्दारों ने किसानों का जो चोला पहन रखा था वो एक एक करके उतर रहा है... पूरा देश यह देख रहा है... सरकार तो कुछ नहीं कर रही लेकिन कानून अपना काम कर रहा है... सरकार कुछ न करके इनके षड्यंत्र को सफल नहीं होने दे रही है।



62 views

Recent Posts

See All